Shehre madina ki azmat

79
✦ Shahar-e-Madina ki Azmat✦
——————————-
✦ Abu Hurirah Radiallahuanhu se rivayat hai ki Rasool-AllahuSal-Allahu Alaihi Wasallam ne farmaya Madine ke raaston par farishte hain na ismein taoon( plague ki beemari) aa sakti hai aur na dajjal
Sahih Bukhari, Vol 3, 1880

✦ Anas Radi allahu anhu se rivayat hai ki Rasool-Allahu Sal-Allahu Alaihi Wasallam ne farmaya Eh ALLAH jitni makka mein barkat ata farmayee hai madiney mein us sey Duguni barkat ata farma.
Sahih Bukhari, Vol 3, 1885
✦Aisha Radi Allahu Anhu se rivayat hai ki Rasool-Allah Sallallahu Alaihi Wasallam ne farmaya Ya Allah hamare Dilon mein madine ki Muhabbat is tarah paida kar de jaise makka ki muhabbat hai bulki is sey bhi ziyada
Sahih Bukhari, Vol 3, 1889
✦ Hadith: Zaid bin Aslam Radhi Allahu Anhu ne apne walid se suna ki Hazrat umar Radhi Allahu Anhu ye dua kiya karte they Ya ALLAH mujhe tere raaste mein Shahadat naseeb farma aur tere Rasool Sallallahu Alalihi Wasallam ke shahar (Madina) mein maut naseeb farma
Sahih Bukhari, Vol 3 , 1890
——————————————–
✦अबू हुरैरा रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूल-अल्लाह सललल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया मदीने के रास्तों पर फरिश्ते हैं ना इसमें ताऊन( प्लेग की बीमारी) आ सकती है और ना दज्जाल
सही बुखारी, जिल्द 3, 1880
✦ अनस रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूल-अल्लाह सललल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया एह अल्लाह जितनी मक्का में बरकत आता फरमाई है मदीने में उस से दुगुनी बरकत अता फरमा
सही बुखारी, जिल्द 3, 1885
✦ आईशा रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की रसूल-अल्लाह सललल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया या अल्लाह हमारे दिलों में मदीने की मुहब्बत इस तरह पैदा कर दे जैसे मक्का की मुहब्बत है बल्कि इस से भी ज़ियादा
सही बुखारी, जिल्द 3, 1889
✦ हदीस: ज़ैद बिन असलम रदी अल्लाहू अन्हु ने अपने वालिद से सुना की हज़रत उमर रदी अल्लाहू अन्हु ये दुआ किया करते थे या अल्लाह मुझे तेरे रास्ते में शहादत नसीब फरमा और तेरे रसूल सललल्लाहू अलैही वसल्लम के शहर (मदीना) में मौत नसीब फरमा
सही बुखारी, जिल्द 3, 1890