Nabi ka ummati par karam in hindi-हिंदी

172
अमीरे तूगरल हिंदी तूगरल बादशाह एक मतॅबा लशकर रास्ते मे एक गांव मे पहुंचा।तो गांव वालो पर झ्याद त्यां शुरु कर दी।जीन से गांव
अमीरे तूगरल हिंदी तूगरल बादशाह एक मतॅबा लशकर रास्ते मे एक गांव मे पहुंचा।तो गांव वालो पर झ्याद त्यां शुरु कर दी।जीन से गांव

अमीरे तूगरल हिंदी
तूगरल बादशाह एक मतॅबा लशकर रास्ते मे एक गांव मे पहुंचा।तो गांव वालो पर झ्याद त्यां शुरु कर दी।जीन से गांव वाले बरे परेशान हुए।इसी रात तूगरल बादशाह को जवाब मे हुजूर (सल्लाहु तआला अलैही वसल्लम ) मीले।बादशाह ने सलाम अजॅ किया।तो हुजूर रुखे अनवर फेर लिया।ओर फरमाया।
अल्लाह ने तूम्हे अपनी मखलूक पर हाकीम बनाया है।ओर तूम उसकी मखलूक को परेशान करने लगे हो।क्या तूम अल्लाह के जलाल से नही डरते।
बादशाह की आंख खूली तो वो कांप रहा था।ओर उसी वक्त उसने सारे लश्कर मे मूनादी करादी। के खबरदार कोई किसी शख्स पर झरा भर भी ज्यादती न करे।वरना उसे सख्त सजा दी जा येगी।
सबक:हमारे हुजूर (सल्लाहु तआला अलैही वसल्लम )अपने गुलामो के हालात से बा खबर हे।ओर अपने गुलामो की परेशानी आप परेशान गूजरते।ओर ये भी मालूम हुआ।के हाकिम की नजर अगर अल्लाह के जाह व जलाल पर रहे तो वो रिआया पर कभी जूल्म व शीतम नही करता।