quran in hindi

quran-in-hindi quran with-arabic pronunciation

kanzul iman Quran in Hindi quran with kanzul iman in hindi free download and learn in hindi
चार यार (रदीयल्लाहु तआला अन्हु) हजरत हजरत अबु बकर

चार यार (रदीयल्लाहु तआला अन्हु) हजरत हजरत अबु बकर

चार यार (रदीयल्लाहु तआला अन्हु) हजरत अबु अब्दुल्लाह मुतहदी फरमाते है। एक साल मे हज के लिये गया।तो हरम शरीफ मे एक एसे शख्स...
kalma in islam

kalma in islam English Arbic hindi six kalima

Hear is 6 kalma in islam and with translation in English Hindi and transtrilation also 6 kalma in English   6 kalma in...

हज़रत आदम अलैहिस्सलाम हिस्टरी इन हिन्दी

हज़रत आदम अलैहिस्सलाम हिस्टरी इन हिन्दी पार्ट 1 हेअब से इंशाल्लाह नबी हज़रत आदम अलैहिस्सलाम के वक़ीयत आएँगे…नही पारहा तो क्लिक करे इब्लिस की...
हदीसों की रौशनी, हज़रते अबू हुरैरह रदियल्लाहू अन्हु फरमाते हैं मैंने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की खिदमत में अर्ज़ किया के मैं आपसे बहुत सारी हदीसें सुनता हूँ लेकिन भूल जता हूँ आप ने फरमाया अपनी चादर फैलाओ मैंने अपनी चादर बिछादी आप ने दोनों हाथों से लप बना कर चादर में कुछ डाल दिया और फरमाया इसको लपेट लो मैंने चादर को लपेट लिया और उसके बाद कभी कोई बात न भूला बुखारी शरीफ जिल्द 1 सफ़्हा 22 इस हदीस में देखिये कैसे रूहानी इख्तियारात हैं किया शाने तसर्रुफ़ है और खुदादाद कुदरत है हुज़ूर खाली चादर में बज़ाहिर ख़ाली लप बनाकर डालते हैं और कैसी बे मिसाल याद दाश्त अता फरमाते हैं और हुज़ूर की अता और बख्शिश का नतीजह है के जनाबे अबू हुरैरह से जितनी अहादीस रिवायत की गईं वह और किसी सहाबी से नहीं हजरते अबू हुरैरह से मर्वी है के रसूलुल्लाह ने इरशाद फरमाया के मैं कियामत के दिन सारे इंसानों का सरदार हूँ बुखारी किताबुल अम्बिया सफहा 470 मुस्लिम जिल्द 1 सफहा 111 इस हदीस से मालूम हुआ के हुज़ूर अलैहिस्सलाम की हुकूमत व बादशाहत व सरदारी और सल्तनत सिर्फ दुन्या ही में नहीं बलके कियामत के दिन भी आप ही का सिक्का चलेगा इसी लिए आपको सरकारे दोआलम और सरवरे कौनैन कहा जाता है

हज़रते अबू हुरैरह रदियल्लाहू अन्हु की अक्ल का राज़

हदीसों की रौशनी, हज़रते अबू हुरैरह रदियल्लाहू अन्हु फरमाते हैं मैंने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की खिदमत में अर्ज़ किया के मैं आपसे बहुत...